Competition exam, science, maths, general knowledge, motivational quotes, study materials, study zone

शनिवार, 7 अगस्त 2021

कूलॉम का व्युत्क्रम वर्ग नियम क्या है? सूत्र की स्थापना|coulomb's inverse square law

कूलॉम का व्युत्क्रम वर्ग नियम क्या है? सूत्र की स्थापना|coulomb's inverse square law

आज की इस पोस्ट में हम class 12th physics  में चुम्बकत्व के अंतर्गत एक महत्वपूर्ण टॉपिक कूलॉम का नियम (coulomb’s law in hindi) पढ़ने वाले हैं|

इससे पहले भी हम स्थिर वैद्युत के अंतर्गत कूलॉम का नियम पढ़ चुके हैं जो विद्युत आवेशों के लिए था और इस पोस्ट में जो हम कूलॉम का नियम पढ़ने वाले हैं यह चुंबक के लिए हैं|

हम जानते हैं चुंबक के दो सजातीय ध्रुवों में प्रतिकर्षण बल तथा विजातीय ध्रुवों में आकर्षण बल लगता है| इस बल को ज्ञात करने के लिए सन 1785 में चार्ल्स ऑगस्टिन कूलॉम (C.A. Coulomb) ने एक नियम का प्रतिपादन किया जिसे कूलॉम का व्युत्क्रम वर्ग नियम कहते हैं|

कूलॉम का नियम क्या है(coulomb ka niyam kya hai) 

कूलॉम के नियमानुसार -"चुंबक के दो ध्रुवों के मध्य लगने वाला बल उन ध्रुवों के ध्रुव- प्राबल्यों के गुणनफल के अनुक्रमानुपाती और उनके बीच की दूरी के वर्ग के व्युत्क्रमानुपाती होता है|"

कूलॉम का व्युत्क्रम वर्ग नियम क्या है? सूत्र की स्थापना|coulomb's inverse square law
Kulam ka niyam

कूलॉम के नियम का सूत्र(coulomb’s law formula in hindi) 

यदि दो ध्रुवों के ध्रुव- प्राबल्य m1  और m2  हो तथा उन ध्रुवों के बीच की दूरी d  हो, तो कूलॉम के नियमानुसार उनके बीच लगने वाला बल

                 F  ∝  m1. m2        •••••(1) 

                 F  ∝  1/ d²              •••••(2)

समीकरण (1) व (2) से, 

                 F  ∝  m1.m2 / d²

                F  = k m1.m2 / d²

जहाँ k एक आनुपातिक नियतांक है, जिसका मान ध्रुवों के बीच के माध्यम और मापन की पद्धति पर निर्भर करता है|

C. G. S  पद्धति में -

वायु या निर्वात के लिए k = 1 रखने पर

                  F  = m1.m2 / d²  डाईन

S. I  पद्धति में -

        k = μo/4π = 10^-7  रखने पर

         F  = μo/4π. m1.m2 / d²  न्यूटन या

         F  = 10^-7. m1.m2 / d²  न्यूटन

एकांक ध्रुव की परिभाषा ( define unit pole) :

एकांक ध्रुव (Unit pole) - यदि समान परिमाण के दो सजातीय ध्रुव वायु या निर्वात में 1 मीटर की दूरी पर स्थित होने पर एक- दूसरे को 10^-7 न्यूटन के बल से प्रतिकर्षित करें तो प्रत्येक ध्रुव एकांक ध्रुव कहलाता है|

      ( या) 

एकांक ध्रुव वह ध्रुव है जो वायु या निर्वात में 1 मीटर की दूरी पर स्थित अपने समरूप ध्रुव को 10^-7 न्यूटन के बल से प्रतिकर्षित करता है|

Share:
Location: Sitamau, Madhya Pradesh 458990, India

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

राष्ट्रपति से संबंधित महत्वपूर्ण प्रश्न उत्तर|president gk questions in hindi

राष्ट्रपति से संबंधित महत्वपूर्ण प्रश्न उत्तर|president gk questions in hindi आज की इस पोस्ट में हम भारत के राष्ट्रपति(president of india) ...

Popular post