Competition exam, science, maths, general knowledge, motivational quotes, study materials, study zone

मंगलवार, 10 नवंबर 2020

विद्युत बल रेखाएँ, गुण और उपयोग|class12th physics vidyut bal rekha

विद्युत बल रेखाएँ, गुण और उपयोग

आज इस पोस्ट में हम class 12th physics के महत्वपूर्ण टॉपिक विद्युत बल रेखाएँ उनके गुण और उपयोग के बारे में पढ़ने वाले हैं| अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगे तो कमेंट करें और पोस्ट को शेयर करें|

विद्युत बल रेखाएँ क्या है?( electric lines of force in Hindi) :

इससे पहले हमने विद्युत क्षेत्र के बारे में पढ़ा था कि किसी आवेश के चारों ओर का वह क्षेत्र जहां तक वह विद्युत बल( आकर्षण और प्रतिकर्षण बल) का अनुभव कर सकता है उसे विद्युत क्षेत्र कहते हैं|

यदि किसी विद्युत क्षेत्र में एक स्वतंत्र एकांक धन आवेश रख दिया जाए तो वह धन आवेश गति करने लगता है और उसके गति की जो दिशा है वह उस पर लगने वाले बल की दिशा में होती है| इस विद्युत क्षेत्र में एकांक धन आवेश के चलने का जो मार्ग है उसे ही विद्युत बल रेखा कहते हैं|

विद्युत बल रेखाओं की कल्पना सर्वप्रथम माइकल फैराडे ने की थी|


विद्युत बल रेखाओं की परिभाषा(Vidyut Bal Rekha ki paribhasha) :

“किसी विद्युत क्षेत्र में खींची गई वे काल्पनिक व निष्कोण वक्र रेखाएँ जिन पर एक स्वतंत्र एकांक धन आवेश गमन कर सकता है विद्युत बल रेखाएँ कहलाती है|”

विद्युत बल रेखाएँ सीधी या वक्राकार हो सकती है जिसके किसी बिंदु पर खींची गई स्पर्श रेखा उस बिंदु पर स्थित एकांक धन आवेश पर लगने वाले बल की दिशा (परिणामी तीव्रता की दिशा) बताती है|

विद्युत बल रेखाएँ, गुण और उपयोग|class12th physics vidyut bal rekha
 विद्युत बल रेखाएं

यदि धन आवेशित गोले के विद्युत क्षेत्र में एक स्वतंत्र एकांक धन आवेश रख दिया जाए, तो वह प्रतिकर्षण बल के कारण गोले से दूर एक सरल रेखा में अनंत तक चला जाएगा| जैसा की चित्र(a)  मैं दर्शाया गया है|

यदि ऋण आवेशित गोले के विद्युत क्षेत्र में एक स्वतंत्र एकांक धन आवेश रख दिया जाए, तो वह आकर्षण बल के कारण अनंत से सरल रेखा में चलकर गोले तक आ जाएगा| जैसा की चित्र(b)  मैं दर्शाया गया है|

 विद्युत बल रेखाओं के गुण(Vidyut Bal Rekha ke gun) :

1.ये सदैव धन आवेश से प्रारंभ होकर ऋण आवेश पर समाप्त होती है|

2.विद्युत बल रेखाएँ एक दूसरे को कभी प्रतिच्छेद नहीं करती है|

3.विद्युत बल रेखाएँ चालक की सतह के लम्बवत निकलती है|

4.विद्युत बल रेखाओं के किसी भी बिंदु पर खींची गई स्पर्श रेखा उस बिंदु पर परिणामी तीव्रता की दिशा को प्रदर्शित करती है|

5.विद्युत बल रेखाएँ चालक से होकर नहीं गुजरती है| अतः किसी चालक के अंदर विद्युत क्षेत्र की तीव्रता शून्य होती है|

विद्युत बल रेखाओं के उपयोग(Vidyut Bal Rekha ke upyog) :

विद्युत बल रेखाओं की सहायता से हम निम्न जानकारी प्राप्त कर सकते हैं-

1.विद्युत बल रेखाएँ जहाँ सघन होती है वहाँ विद्युत-क्षेत्र की तीव्रता अधिक और जहाँ विद्युत बल रेखाएँ विरल होती है वहाँ विद्युत-क्षेत्र की तीव्रता कम होती है|

2.विद्युत बल रेखाओं के किसी बिंदु पर स्पर्श रेखा खींचकर उस बिंदु पर परिणामी तीव्रता की दिशा ज्ञात की जा सकती है|

 इनके बारे में भी पढ़ें:

> विद्युत क्षेत्र की तीव्रता|मात्रक|विमीय सूत्र

> कूलाम का नियम|सूत्र| सीमाएं

> आवेश संरक्षण और आवेश का क्वाण्टीकरण

> विद्युत धारा की परिभाषा|मात्रक|विमीय सूत्र

> ओम का नियम| सूत्र |सीमाएं

> प्रतिरोध और प्रतिरोधकता

> क्रांतिक कोण| क्रांतिक कोण और अपवर्तनांक में संबंध

Share:
Location: Sitamau, Madhya Pradesh 458990, India

2 टिप्‍पणियां:

general knowledge question answer|25 gk one linear questions part-3

general knowledge question answer|25 gk one linear questions part-3 आज की इस पोस्ट में हम  general knowledge (सामान्य ज्ञान ) के  gk one lin...

Popular post